कद्दू की पूरी
  • 721 Views

कद्दू की पूरी

कद्दू की पूरी (Red Pumpkin Poori) नमकीन भी बनतीं है और मीठी भी. कद्दू की नमकीन पूरी पूरियों जैसी नरम होती है लेकिन इनका स्वाद खाने में कचौरियों जैसा होता है.  आप त्यौहार पर यदि कुछ विशिष्ट प्रकार की पूरियां बनाना चाहें तो कद्दू की नमकीन पूरी (Red Pumpkin Masala Poori) बनाकर देखिये.

आवश्यक सामग्री -

  • पका कद्दू - 500 ग्राम (कद्दूकस किया 3 कप)
  • गेहूं का आटा - 350 ग्राम (3 कप)
  • बेसन - 75 ग्राम (2/3 कप)
  • नमक - स्वादानुसार ( 2/3 छोटी चम्मच)
  • अजवायन - आधा छोटी चम्मच
  • तेल - एक टेबल स्पून
  • तेल - पूरिया तलने के लिये

विधि -

कद्दू की नमकीन पूरियों के लिये कद्दू एकदम पका हुआ पीला लिया जाता है.  कद्दू की पूरी बनाने के लिये कद्दू हम दो तरह से उबाल सकते हैं

    अ. कद्दू को छीलकर बीज वगैरह हटा दीजिये.  कद्दू के बडे बड़े टुकडे कीजिये, धोईये और आधा कप पानी डालकर कुकर में एक सीटी आने तक उबाल लीजिये.  या
    ब. कद्दू को छीलकर बीज वगैरह हटाकर कद्दूकस कर लीजिये.  एक पैन या कढाही में कद्दूकस किये कद्दू को  एक चमचा पानी डाल धीमी आग पर सिर्फ इतना उबालिये कि कद्दू एकदम नरम हो जांय.


आटे और बेसन को छान कर किसी बर्तन में निकाल लीजिये, आटे में नमक, अजवायन, तेल और उबाला हुआ कद्दू डाल कर अच्छी तरह मिलाइये.  इस मिश्रण से पूरियों का कड़ा आटा गूंथ लीजिये.  आटा उबाले हुये कद्दू के साथ ही गुंथ जाता है और इसमें पानी मिलाने की आवश्यकता नहीं होती या बहुत ही थोड़ा पानी ही मिलाना पड़ता है.   गुथे गये आटे को ढककर 20 मिनिट के लिये रख दीजिये.

20 मिनिट बाद, हाथ से तेल लगाकर, गुथे आटे को अच्छी तरह मसल मसल कर चिकना कीजिये. अब इस आटे से छोटी छोटी लोई तोड़ लीजिये, सारी लोइयों को गोल करके, पेड़े बनाकर रख लीजिये.

कढ़ाई में तेल डालकर गरम कीजिये, एक लोई उठाइये, चकले पर रखिये, लोई को 3- 3 1/2 इंच व्यास में एक जैसा गोल बेलिये.  तेल के गरम होने पर पूरी तेल में डालिये और पूरी को कलछी से फुलाकर दोनों ओर हल्की ब्राउन होने तक तल कर निकाल लीजिये. दूसरी पूरी बेल कर इसी तरह तेल में डालिये और तलिये.  सारी पूरियां इसी तरह तल कर निकाल कर किसी डलिया या प्लेट में रख लीजिये.

कद्दू की नमकीन पूरियां तैयार हैं. गरमा गरम कद्दू की नमकीन पूरियां, आलू मटर की सब्जी, गोभी आलू की सब्जी, चटनी और अचार किसी से भी, जो आपको पसन्द हो परोसिये और खाइये, ये पूरियां ठंडी होने के बाद भी उतनी ही स्वादिष्ट रहती हैं.