फलाहारी मावा मालपुआ
  • 504 Views

फलाहारी मावा मालपुआ

मावा में सिघाड़े का आटा डालकर बनाये गये फलाहरी मावा मालपुआ खाने और देखने में अनुपम होते हैं.  नवरात्रि या अन्य व्रत के दौरान सामूहिक व्रत खोलने के आयोजन में तो इसे बनाना मत भूलियेगा.

आवश्यक सामग्री -

  • मावा - 3/4 कप (150 ग्राम)
  • सिंघाड़े का आटा - ½ कप (75 ग्राम)
  • चीनी - 1 कप (200 ग्राम)
  • दूध - 1 कप
  • पिस्ते - 10-12
  • इलायची - 6-7
  • घी - तलने के लिए

विधि -

मिक्सर में मावा, सिंघाड़े का आटा और दूध डालिये, फैंटकर, चिकना बैटर तैयार कर लीजिए. बैटर को प्याले में निकाल लीजिए.

बैटर को 15-20 मिनिट के लिए रख दीजिए ताकि ये फूल कर तैयार हो जाएगा. पिस्ते बारीक काटकर तैयार कर लीजिए और इलायची का पाउडर बना लीजिए.

चाशनी बनाएं-
बर्तन में चीनी और आधा कप पानी डाल कर गरम करने रखिये, उबाल आने के बाद चाशनी को चैक कीजिए चम्मच से चाशनी निकाल कर प्लेट पर 1-2 बूद गिराइये, उंगली और अंगूठे के बीच चिपका कर देखिये, 1 तार निकल रही हो तो चाशनी बनकर तैयार है. चाशनी में छोटी इलाइची डाल कर मिला दीजिये. गैस बंद कर दीजिए और चाशनी को थोडा़ ठंडा होने दीजिए.

कढाई में घी गरम होने के लिए रखें, घी के मीडियम गरम होने पर 1 चमचा घोल डालिये. मीडियम गैस फ्लेम पर मालपुआ तलिये, हलका ब्राउन होने पर पलटिये, दूसरी तरफ भी हल्का ब्राउन होने दीजिये. मालपुआ निकाल कर किसी प्लेट में रखिये और सारे मालपुआ इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये.

मालपुआ को चाशनी में डुबाइये, और निकाल कर प्लेट में लगाइये, ऊपर से बारीक कटे पिस्ते डालकर सजाइये. फलाहारी मावा मालपुआ बनकर तैयार हैं इन्हैं परोसिये और खाइये.

सुझाव:-

बैटर गाढ़ा होने पर मालपुआ पतले नहीं बनेंगे, बैटर में थोड़ा दूध डालकर उसे पतला किया जा सकता है. बैटर अधिक पतला होने पर मालपुआ सही शेप में नहीं बनेंगे, बैटर में थोड़ा सा सिघाड़े का आटा डालकर बैटर को गाढ़ा किया जा सकता है.
चाशनी गाढ़ी होने पर मालपुआ के अन्दर नहीं जायेगी, थोड़ा 1-2 छोटी चम्मच पानी डालकर चाशनी को ठीक किया जा सकता है. चाशनी पतली होने पर मालपुआ को गीला सा, और एकदम नरम कर देगी, थोड़ा और पकाने से चाशनी सही कनसिसटेन्सी की बन जायेगी.